दो खामोश आंखें – 11

योगेन्द्र सिंह छोंकर पते की तो बात क्या नाम तक बताया नहीं एक झलक दिखा कर जो हो गयीं ओझल […]

दो खामोश आंखें – 10

योगेन्द्र सिंह छोंकर अभाव के ईंधन से भूख की आग में जलते इंसानों की देख बेबसी क्यों नहीं बरसती दो […]

दो खामोश आंखें – 8

योगेन्द्र सिंह छोंकर पीने को दो घूँट जो रोपी अंजुली उसके गोल घड़े के सामने पाया घड़ा खाली है हर […]

दो खामोश आंखें 7

योगेन्द्र सिंह छोंकर किसी के रूप से होकर अँधा जो मैं भटका जहाँ में जानता हूँ पीठ पर चुभती रहेंगी […]

दो खामोश आंखें – 6

योगेन्द्र सिंह छोंकर अपनी अपनी वासनाओं में हस्तमैथुनरत दुनिया में बेइरादा डोलती कुछ बावरी भी हैं दो खामोश ऑंखें

दो खामोश आंखें – 5

योगेन्द्र सिंह छोंकर हो जाऊं जहाँ के लिए मसीहा या फिर कातिल मैं क्या हूँ जानती हैं बखूबी दो खामोश […]

दो खामोश आंखें – 3

योगेन्द्र सिंह छोंकर तेरे जाने का ख्याल मुझे दहशत नहीं देता मत समझना मैं तुम्हे दिल से नहीं लेता न […]

दो खामोश आंखें 2

योगेन्द्र सिंह छोंकर इत्तिला अपनी रवाग्नी की करते समय जो थी पीर चहरे पर तीस आवाज में लिख पाने में […]

error: Content is protected !!