मजदूर के लिए 1

योगेन्द्र सिंह छोंकर
लाल किला है लाल
लहू से मेरे
ताज महल का संगेमरमर
मेरे पसीने से
चिपका है

दो खामोश आंखें पीठ में सुराख किये जाती हैं

योगेन्द्र सिंह छोंकर दो खामोश ऑंखें मेरी पीठ में सुराख़ किए  जाती हैं! माना इश्क है खुदा क्यों मुझ काफ़िर को पाक […]

मजदूर के लिए 2

योगेन्द्र सिंह छोंकर ओ मेरी रहनुमाई के दावेदारों जरा सुनो मेरी आवाज़ नहीं चाहिए मुझे धरती का राज गर सो […]

Leave a Reply

error: Content is protected !!