कभी आबाद घर यां थे

जहां वीराना है, पहले कभी आबाद घर यां थे, शगाल अब हैं जहां बसते, कभी रहते बशर यां थे। जहां […]

error: Content is protected !!